Sunday, April 19, 2020

रोमी का मज़ाक उड़ाना। Make fun of Romi

                                    रोमी का मज़ाक उड़ाना। Make fun of  Romi


                                                                 


मैंने अपने जीवन में कई ऐसे लम्हे जिये हैं, जिन्हे मैं आज भी याद करता हूँ, तो बड़ी हंसी आती हैं.

मुझे याद हैं, रोमी मेरे दोस्त की एक लड़की के साथ फ्रेंडशिप हो गयी , वो लड़की रोमी की गली में ही रहती थी , रोमी ने उसे मिलने के लिए कहा , वो भी मान गयी , उसने मिलने के लिए एक गुरूद्वारे के बाहर बुलाया , गुरूद्वारे का नाम था,  शहीदी गुरुद्वारा , रोमी ने मुझे भी अपने साथ चलने के लिए कहा, रविवार का दिन था मैंने कहा ठीक हैं , मैं रोमी के साथ उसकी फ्रेंड को मिलने चला गया , यह रोमी की पहली मुलाकात थी , वो लड़की गुरूद्वारे के पास बाहर ही खड़ी थी , उसने इशारा किया , हम उसके पास चले गए.

रोमी उसके साथ काफी समय तक बात करता रहा , अचानक उसने धीमी सी आवाज़ में कहा, भाग जाओ, उसने दोबारा कहा भाग जाओ , मैंने सुन लिया , मैंने कहा क्या हुआ , उसने कहा मेरे चाचा जी सड़क पर जा रहे थे , उन्होंने आपको देख लिया और वो इस समय आपकी तरफ ही आ रहे हैं , मेरे और रोमी के होश उड़ गए , मैंने फटाफट स्कूटर स्टार्ट किया, मैंने रोमी को बिठाया और स्कूटर तेजी से चला कर मेंडी के घर पहुँच गया , हम उस लड़की के चाचा के हाथ में आने से 2 मीटर दुरी पर थे।

हम लोग मेंडी के घर पहुंचे , मेंडी की मम्मी ने पूछा क्या हुआ , हमारी साँसे फूल रही थी , उसकी मम्मी ने पूछा क्या हुआ , मैंने सारी बात बता दी , मैंने कहा आंटी जी शहीद गुरूद्वारे के पास हम लोग शहीद होने से बच गए , हम लोग बहुत हँसे , उसकी मम्मी ने चाय बनायीं , रोमी ने  पी ली , मैंने मना कर दिया , रोमी ने कहा पी ले, इसमें कोई जहर नहीं हैं , मैंने फिर भी मना  कर दिया।

हम लोग अपने अपने घर आ गए , शाम को हम लोग रोज गार्डन चले गए , मैं , मेंडी और रोमी , हम वैसे हु गार्डन में  घूमते रहे , बाते करते रहे और वही पास में हमने फ़ास्ट फ़ूड खाया , हम लोग अक्सर ऐसे घूमने आ जाते थे।


एक बार की बात हैं हम लोग रविवार के दिन मेंडी के पास थे , मैं और रोमी , वैसे ही बात चल पड़ी , रोमी ने किसी लड़की का  ज़िकर किया , कि वो उसे जानता हैं , मेंडी ने कहा जानता तो मैं भी हूँ , पर वो लड़की मेरे कहने से तो आती नहीं हैं.

रोमी ने कहा मैं फ़ोन करके देखता हूँ , रोमी दरअसल ये दिखाना चाहता था, कि वो लड़की उस को पसंद करती हैं , मेंडी को ये बात चुभ गयी उसने शरत लगा ली रोमी से , रोमी ने उस लड़की को फ़ोन किया और उस लड़की को रोज गार्डन बुला लिया , अब फैसला यह हुआ कि  मैं जज करू कि  वो लड़की किसकी तरफ हैं , मैं भी मान गया।
                                                                          

वो  लड़की रोज गार्डन आ गयी , मेंडी उस से बहुत दूर खड़ा था और मैं भी , रोमी उस लड़की को लेकर बैठा था , मैं भी धीरे धीरे से गया और उनके पास ही नीचे गार्डन में बैठ गया , वो आपस में बाते करते रहे ,
                                                                       
                                                                           



उस लड़की ने मेरी तरफ देखा और रोमी से पूछा क्या तुम इसे जानते हो उसने कहा नहीं , उसने कहा होगा कोई, वो फिर आपस में बाते करने लगे , टाइम निकलता जा रहा था , रोमी ने मेरे सामने उस लड़की को किस्स कर दिया, कुछ देर बाद में उठ गया , रोमी भी चल दिया बाहर की तरफ , मेने ये सारी बात मेंडी को बताई , उसने कहा यार मेरा दिल टूट गया। 

                                                                    


हम दोनों ने मिलके एक योजना बनायीं , हम दोनों रोमी के पीछे पीछे चलने लगे , वो लड़की मुड़ मुड़ कर पीछे देख रही थी , रोमी  ने कहा पीछे मत देखो , मैंने रोमी को आवाज़ दी , मैंने कहा रोमी , रोमी ने अनसुना कर कर जल्दी जल्दी चलने लगा , मैंने फिर कहा रोमी , उसने फिर जल्दी जल्दी चलना शुरू कर दिया , मैंने भाग कर रोमी की पीठ पर हाथ मारा , मैंने कहा रोमी , रोमी रुक गया , उसका रंग उड़ गया , रोमी ने कहा आप कौन , मेरी हंसी छूट गयी , मैंने कहा रोमी यार तू शरत  जीत गया , ये ले अपने 500 रूपए , रोमी ने कहा कौन सी शरत , मैंने कहा किस्स करने के लिए और मेंडी की दोस्त के साथ दोस्ती करने के लिए। रोमी की तरफ उस लड़की ने  गुस्से से देख कर बोला प्लीज मुझे रोड तक छोड़ दो , और रोमी चला गया , मैं और मेंडी , मेंडी के घर आ गए , थोड़ी देर बाद रोमी भी आ गया , रोमी आग बबूला हो कर बोला , यह तुम लोगो ने क्या किया , मैंने रोमी से कहा मुझे ये सब कुछ करने के लिए मेंडी ने कहा था। , उसने कहा मेंडी मैं तुम्हे कभी माफ़ नहीं करूँगा और जब मौका मिलेगा मैं भी ऐसा ही करूँगा।
                                                                       


रोमी ने बताया कि जब उस लड़की को उसने रोड पर छोड़ा तो उस लड़की ने कहा , अगर आप को पैसो की जरुरत थी तो मेरी सोने की चैन ही ले लो , पर ऐसा क्यों किया , रोमी ने बताया कि जब उस लड़की ने ये सब कहा तो वो बहुत शर्मिंदा हो गया था।

मैने और मेंडी ने रोमी को सॉरी कहा , मैंने रोमी से कहा यार तुम लोग यह सब कुछ छोडो और सच्ची दोस्ती और प्यार ढूंढो और मैं अपने घर आ गया
_______________________________________________________________________________

दोस्तों शुरू से पढ़ने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक करे





मेरी नई नौकरी और मीनाक्षी से दूर जाना।My new job and moving away from Meenakshi
 
मम्मी की बात से दिल टूट गया। Heartbroken because of my mother

रजनी को बहन वाला कार्ड भेजना। Send sister card to Rajni

मीनाक्षी की जिद्। Meenakshi's insistence

मिनाक्षी और मेरी लड़ाई। Minakshi and my fight
 
मीनाक्षी ने अपनी मम्मी को सब कुछ बता दिया। Meenakshi told her mother everything
 
मिनाक्षी और मुझमें प्यार का एहसास | Minakshi and i feel love
 
रजनी के करीब पहुँचने की कोशिश | Trying to get close to Rajni
 
मिनाक्षी से प्यार की शुरुआत | Beginning of love with minakshi
 
मीनाक्षी से प्यार का इज़हार | Express love to meenakshi
 
मिनाक्षी का दरवाजे के पीछे फुटफुट कर रोना | Minakshi crying behind the door
 
अनचाही बात का पता लगना | Find out unwanted
 
मीनाक्षी से दोबारा मुलाकात | Meet meenakshi again
 
मेंडी का दोबारा मुझसे मिलना (Mendy meeting me again)
 
शिक्षा के बदले शिक्षा (Education instead of education) 
 
पकड़ा गया नीरज (Caught Neeraj) 
 
मेंडी से मुलाकात | Meeting mendi
 
मीनाक्षी से पहली मुलाकात | First meeting with meenakshi
 
बिन बुलाई प्यार की सिफारिश की मुसीबत | Recommended trouble without love called
 
रजनी से अचानक मुलाकात | Suddenly meet Rajni
 
पढ़ाई बंद और संघर्ष की शुरुआत (Stop studying and start struggle) 
 
शुरुआत से आगे (From the Beginning) 
 
शुरुआत (Beginning) 
 
मेरी ज़िन्दगी - My Life -Introduction
 

__________________________________________________________________________________


English Translation : Make fun of  Romi

                                                 



I have lived many such moments in my life, which I still remember today, then I laugh a lot.

I remember, Romi had a friendship with a girl, that girl lived in the street of Romi, Romi asked her to meet him, she too agreed, he called outside a gurdwara to meet, the name of the gurdwara Was, Shaheedi Gurudwara, Romi also asked me to go with him, Sunday was the day I said ok, I went to meet his friend with Romi, this was Romi's first meeting

The girl was standing outside the gurudwara, she pointed out, we went to her. Romi kept talking with her for a long time, suddenly she said in a low voice, run away, she said again run away, I listened, I said what happened, she said my uncle was going on the road, they saw you and they are coming towards you right now, my senses and Romi flew away, I started the scooter quickly, I made Romi sit and drove the scooter fast and reached Mendy's house, we were 2 meters away from the girl's uncle's hand. 


We arrived at Mendi's house, Mendi's mother asked what happened, our breath was blooming, her mother asked what happened, I told the whole thing, I said that we survived being Shaheed near the Shaheedi gurudwara, We laughed a lot, his mother made tea, Romi drank, I refused, Romi said drink, there is no poison in it, I still refused.


We came to our respective homes, in the evening we went to the Rose garden that day, me, Mendy and Romi, we wandered in the garden like that, we talked and we ate fast food nearby, we used to come often for such walks.Once upon a time we were with Mendy on Sunday, I and Romi, the same thing went on, Romi mentioned a girl, that she knows him, Mendy said, I know I am too,Romi said, I call and see, Romi actually wanted to show this, that the girl likes him, Mendy was shocked, he made a bet on this with romi, Romi called the girl and she agreed to come in garden, now it was decided that I should judge on whose side the girl is, I also agreed. 

That girl came to the Rose garden that day, Mendy was standing far away from her and I too, Romi was sitting with that girl, I also went slowly and sat down in the garden near them, they kept talking among themselves.

The girl looked at me and asked Romi, do you know him, he said no, he said, someone will, Then they started talking among themselves, time was running out, Romi kissed that girl in front of me, I Woke up a little later, Romi also walked outwards, I told all this thing to Mendy, he said, my friend is broken. my heart.

The two of us made a plan together,We both started following behind Romi, the girl was turning and looking back, Romi said don't look back, I gave a voice to Romi, I said Romi, Romi started walking quickly after unheard, I again said Romi , He then quickly started walking, I ran up and hit Romi's back, I said romi, romi stopped, his color went away, romi said who are you, I laughed a lot.

I said Romi my dear friend, you won the bet, take your 500 rupees, Romi said which bet, I said to kiss that girl and to befriend Mendy's friend. Seeing that girl angrily towards Romi, please leave me till the road, and Romi left, me and Mendy, come to Mendy's house, after a while, the Romi also arrived, the Romi spoke in exasperation, what did you guys do, I told Romi, Mendi told me to do all this. , He said, Mendy, I will never forgive you and I will do the same when I get a chance.
Romi told that when she left that girl on the road, that girl said, if you needed money then take my gold chain, but why did it, Romi told that when that girl said all this So he was very embarrassed.

I and Mendy said sorry to Romi, I told Romi, dude, you guys leave everything and find true friendship and love and I come home


________________________________________________________________


Friends, click on the links below to read from the beginning.








My new job and moving away from Meenakshi

Heartbroken because of my mother


Send sister card to Rajni


Meenakshi's insistence


Minakshi and my fight

Meenakshi told her mother everything
 
Minakshi and i feel love
 
Trying to get close to Rajni
 
Beginning of love with minakshi
 
Express love to meenakshi
 
Minakshi crying behind the door
 
Find out unwanted

 
Meet meenakshi again
 
Mendy meeting me again
 
Education instead of education
 
Caught Neeraj
 
Meeting mendi
 
First meeting with meenakshi
 
Recommended trouble without love called
 
Suddenly meet Rajni
 
Stop studying and start struggle
 
From the Beginning
 
Beginning 
 
My Life -Introduction 




No comments:

Post a Comment